भारत

August 15th, 2010 by Jashodhara Purkayastha

 

 

 

 

 

 

 

 

 

भारत देश महान है
प्यारा हिंदुस्तान है
हम उसके संतान है
अलग होकर भी एक है |

मिटटी इसका सोना है
नदी का जल तो रूपा है
दोनों के ही मिलने से
अमृत का फल मिलता है |

भिन्न भिन्न जाती है
रहन – सहन अलग है
अलग अलग भाषा है
फिर भी हम एक है |

कोई बंगाली , कोई मद्रासी
कोई मराठी , कोई गुजरती
कोई कश्मीरी , कोई पंजाबी
बोलते छब्बीस सुन्दर बोली |

भाषा अलग , बेश अलग
अलग उत्सव मनाते है
लेकिन सबके स्वर में एकही भाषा
हम बोलते प्यार की भाषा |

सतंत्रता के चौसठ साल
हम बिताये बेमिसाल
हर साल में कुछ पाया
तो कुछ साल में कुछ खोया |

आज हम गर्व करते
कहते भारत महान
कहा गये वे सुपुत संतान
जिनके लिए भारत ने पाया खुब सम्मान |

आओ आज पंद्रह अगस्त पर
सिर झुकाकर नमन करे
याद करे वे हजारों दिलोको
जिसने बलिदान किया स्वयं को |                                                                                       

 

[Slashdot] [Digg] [Reddit] [del.icio.us] [Facebook] [Technorati] [Google] [StumbleUpon]

Posted in Poems, Social Issues | 4 Comments »

4 Responses

  1. SANJEEV SHARMA Says:

    Good poem must be circulated to all schools. Remembered my schools days felt like a mother teaching me about National Integration.
    I am fed up of the film posters, why cant some organisation come and place this poems on strets.

    Happy Independence day to u.

  2. Namrata Says:

    Wow, Oma darun…

    Yesterday was telling everyone about all cultures we celebrate in Bombay. I was telling them, I feel so happy by celebrating all the festivals. we cant find all this fun everywhere in this world.

    Proud to be Indian.

  3. Samrat Says:

    Nice Poem.. Proud to be your son and pround to carry forward your teachings..

  4. Indrani Says:

    It is one of the best poems of yours. I hope to see more good poems of yours.

Leave a Comment

Name:
Mail:   (will not be published)
Website:  

Please note: Comment moderation is enabled and may delay your comment. There is no need to resubmit your comment.

Notify me via email about comments: